भाजपा-जजपा नेताओं को किसान नेता की खुली चेतावनी- कल से इनके घर का कुत्ता भी बाहर नहीं निकलने देंगे

तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन 300 दिन पूरे कर चुका है। इस दौरान किसान नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा है कि  यदि 1 अक्टूबर से धान खरीद नहीं शुरू हुई तो इनके घर का कुत्ता भी बाहर नहीं निकल पाएगा। चढ़ूनी ने कहा कि केंद्र ने धान खरीद को एक अक्टूबर से 11 अक्टूबर तक के लिए टाल दिया है।

चढ़ूनी ने एक वीडियो जारी कर कहा, “हम खट्टर सरकार को चेतावनी देना चाहते हैं कि उन्हें 1 अक्टूबर से खरीद शुरू कर देनी चाहिए। अगर वे ऐसा करने में विफल रहते हैं, तो हम भाजपा-जेजेपी विधायकों, सांसदों और उनके अन्य नेताओं के घरों की घेराबंदी करेंगे।”

लिंग पर देखें वीडियो- 

उन्होंने किसानों से कहा कि यदि सरकार शुक्रवार को खरीद शुरू करने में विफल रहती है, तो वे अपनी ट्रैक्टर ट्रॉली लेकर भाजपा-जजपा नेताओं के घरों के बाहर फसल उतार देंगे।

चढ़ूनी ने कहा, “हमने पहले कहा था कि यदि धान की खरीद 15 सितंबर से शुरू नहीं हो सकती है, तो 25 सितंबर से आगे की देरी नहीं होनी चाहिए। मंडियों में धान आ चुका है। किसान इसे कहां रखेंगे, इसके अलावा हाल के दिनों में मौसम भी खराब हो गया है।”

उन्होंने कहा, “सरकार ने पहले कहा था कि वह 1 अक्टूबर से खरीद शुरू करेगी, लेकिन अब वे कह रहे हैं कि यह 11 अक्टूबर से शुरू होगी। सरकार यह सब तब कर रही है जब केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ हमारा आंदोलन चल रहा है।”

बता दें कि केंद्र ने गुरुवार को पंजाब और हरियाणा में खरीफ धान की खरीद 11 अक्टूबर तक के लिए स्थगित कर दी क्योंकि हाल ही में हुई भारी बारिश के कारण फसल की परिपक्वता में देरी हुई है।

खरीद संचालन केंद्र सरकार की नोडल एजेंसी भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) द्वारा राज्य एजेंसियों के साथ किया जाता है।

केंद्रीय खाद्य मंत्रालय ने एक बयान में कहा, “यह बताया गया है कि पंजाब और हरियाणा में हाल ही में हुई भारी बारिश के कारण धान की परिपक्वता में देरी हुई है।”

किसानों के हितों को ध्यान में रखते हुए और उन्हें किसी भी असुविधा से बचने के लिए, मंत्रालय ने फैसला किया है कि इन दोनों राज्यों में न्यूनतम समर्थन मूल्य के तहत धान की खरीद 11 अक्टूबर से शुरू होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed